More search here

Thought of Mother

प्यारी माँ
तू कैसी है
क्या मुझको याद करती है
तूने पूछा था कैसा हूँ मै
मै अच्छा हूँ
तेरी ही सोच के जैसा हूँ
यंहा सब सो गए हैं
मै अकेला बैठा हूँ
सोचता हूँ
क्या करती होगी तू
काम करते करते
बालों का जूडा बनाती होगी
या फिर
बिखरे समानो को समेटती होगी
पर माँ
अब समान फैलाता होगा कौन
मै तो यंहा बैठा हूँ मौन
सुनो माँ
तुमने सिखाया था
सच बोलो सदा
आज जो सच बोला
तो क्लास के बाहर खड़ा था
तुमने ने जैसा कहा है
वैसा ही करता हूँ
ख़ुद से पहले
ध्यान दुसरों का रखता हूँ
पर देखो न माँ
सब से पीछे रह गया हूँ
सब कुछ आता है मुझको
फ़िर भी
टीचर की निगाह से गिर गया हूँ
किसी पे हाथ न उठाना
तुम ने कहा था
पर जानती हो माँ
आज
उन्होंने बहुत मारा है मुझे
जवाब मै भी दे सकता था
पर मारना तो
बुरी बात है न माँ
यंहा सभी मुझे
बुजदिल समझते हैं
मै कमजोर नही हूँ
मै तो तेरा बहादुर बेटा हूँ
हूँ न माँ
अब तुम ही कहो
क्या मै
कुछ ग़लत कर रहा हूँ
तेरा कहा ही तो कर रहा हूँ
तू तो
ग़लत हो सकती नही
फिर सब कुछ
क्यों ग़लत हो रहा है
बताओ न माँ
क्या
इनको ये बातें मालूम नही
माँ
एक बार यहां आओ न
जो कुछ मुझे बताया
इन्हे भी समझाओ न
एक बात बताओ
क्या आज भी तू कहेगी
कि तुझे मुझपे गर्व है
माँ बोलो न
क्या मै तेरी सोच के जैसा हूँ
और तेरा राजा बेटा हूं!

No comments: